तेज बहादुर का आर्मी के खिलाफ बयान कहा इंसाफ के लिए कोर्ट जाऊंगा

तेज बहादुर का आर्मी के खिलाफ बयान कहा इंसाफ के लिए कोर्ट जाऊंगा

तेज बहादुर यादव को आर्मी ने किया बर्खास्त और उन्हें पेंशन भी नहीं मिलेगी , जैसा की हम सभी लोग जानते ही हैं की तेज बहादुर ने वीडियो बनाकर बॉर्डर पर सेना के जवानों को मिलने वाले खाने की पोल खोली तो उसे बर्खास्त कर दिया गया। BSF से बर्खास्त किए जाने के बाद तेज बहादुर यादव घर पहुंच गए और घर आते ही उन्होंने लड़ाई लड़ने का ऐलान कर दिया। तेज बहादुर रोडवेज बस के ज​रिए जैसे ही हरियाणा के रेवाड़ी जिला पहुंचे तो वहां पर उनकी पत्नी मौजूद रहीं। वहीं पूर्व विधायक नरेश यादव व अन्य परिजनों ने उनका माला पहनाकर स्वागत किया।तेज बहादुर ने कहा कि मैंने कुछ गलत नहीं किया, लेकिन सजा गलत मिली मुझे। सबूत देने के बावजूद बर्खास्त किया गया। उन्होंने  यह भी कहा की कि उन्होंने मोदी सरकार से मदद की गुजारिश की है। अगर सरकार मदद नहीं करती तो वे न्याय पाने के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाएंगे।तेज बहादुर ने कहा कि मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हुई है। मेरे साथ सेना के कई जवान हैं।

गौरतलब है कि 9 जनवरी 2017 को तेज बहादुर ने जम्मू में सीमा पर तैनाती के दौरान ही वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में डाला था। कुछ ही समय में यह वायरल हो गया था। इसके बाद से ही बीएसएफ में उनके साथ बुरा बर्ताव हो रहा था। उन्हें एक तरह से नजरबंद कर दिया गया था। अब उन्हें बर्खास्त कर दिया गया है।तेज बहादुर ने कहा कि, ‘आशा है कि मुझे न्याय मिलेगा, मुझे न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है। मैं ये नहीं कह रहा हूं कि सभी सेना के अधिकारी भ्रष्ट हैं लेकिन 50% अधिकारी खराब खाने के लिए जिम्मेदार हैं।’तेज बहादुर का कहना है कि मैंने भी भगत सिंह की तरह ही अंधे-बहरों को जगाने के लिए ये बम फोड़ा था। जब से मेरा वीडियो वायरल हुआ उसके बाद से इन लोगों ने मुझे अंडर कस्टडी रखा, मुझे अरेस्ट करके रखा। उन्होंने कहा की मैं चाहूं तो मैं उन सबके नाम बता सकता हूं। मेरे पास सब सबूत थे इसलिए मैंने वीडियो बनाया था। मेरा वीडियो वायरल होने के बाद काफी सुधार हुआ है, चीज़ें काफी सुधरी हैं और मुझे इस बात की खुशी है। खुशी ये है कि मेरी वजह से खाना अच्छा हुआ, पर दुख इस बात का है कि मुझे न्याय नहीं मिला।

Comments

comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *